Mar 9, 2013

ग़ालिब

सुना है ग़ालिब तुझे बड़ी फुर्सत थी
अच्छा हुआ उस ज़माने में फेसबुक नहीं था..
Post a Comment

Followers