Mar 14, 2013

 अब हम दोनों में कोई मुकाबला नहीं
अपना फांसला जमी आसमान का है
तुम बुलंदी छूकर फ़रिश्ता बन चुकी
अपना तेवर तो अब भी इंसान का है


------------------
तेरे बगैर यूं होगा सोचा भी नहीं था
मेरा ख्वाब लहू होगा सोचा भी नहीं था


-------------------

तुमने तो कह दिया कि बूरा क्या है
कभी देख लिया होता अधूरा क्या है


-----------------

  
Post a Comment

Followers