Nov 6, 2008

अखबार



सोमवार से रविवार तक,  कैसी खबरें लाता है...
ये अखबार, जो रोज़, मेरे घर पर आता है..

जलती रेलें, खोते जहाज़ और भी कुछ...
बनते रिश्ते, रश्म-ओ-रिवाज़ और भी कुछ..
उटपटांग सी खबरों को,  हेडलाइंस बनाता है...
ये अखबार, जो रोज़, मेरे घर पर आता है..

कहीं आंसू से भीगा, कहीं खून से लाल हाय राम..
कहीं शोक संदेश, कहीं माया का जाल हाय राम...
चाय की चुस्की लेते-लेते, मेरा जी घबराता है..
ये अखबार, जो रोज़, मेरे घर पर आता है...

ओलम्पिक में बस एक मेडल, चलो ठीक है...
इंडिया-ऑस्ट्रेलिया, ड्रा पे सेटल, चलो ठीक है...
पर होकी, कबड्डी, खो-खो को, क्यों सुर्खिया नहीं बनाता है...
ये अखबार, जो रोज़, मेरे घर पर आता है...

किंग खान और करन जोहर, फ्रांस में शूट पर बिजी है...
शाहिद ने नयी फिल्म साइन की, करीना थोड़ी चूजी है...
एक अरब के देश को, क्या फालतू बातें सुनाता है...
ये अखबार, जो रोज़, मेरे घर पर आता है....

आज हाथ से, कल फूल पर, घर बदले...
नरम मुलायम, उछले लालू, नटवर बदले...
माया, उमा और जाया जैसी, देवी के रूप दिखाता है...
ये अखबार, जो रोज़,  मेरे घर पर आता है...

* This poems is a direct comment on today's electronic and some print media
Post a Comment

Followers