Apr 11, 2015

नया अंदाज़

हर रोज़ ढूंढते हैं कि क्या आज नया है
हर एक उनकी बात का अंदाज़ नया है

जाने क्यों उचटा है मन, अब देश राग से
बंशी की जगह बज रहा, कोई साज नया है

न जाने कब किधर से, वो वार करेगा
हर आदमी का तरीक़ा-ए-आगाज़ नया है

किरदार जल चुके हैं, कहानी के मेरे दोस्त
धुंए से जो है उठ रहा, वो राज़ नया है

वो चाहता है भूख का, शिकार बनो तुम
फ़िर झट से ले उड़ेगा, बाज़ नया है

शहरों में रहगुज़र की, तरक़ीब क्या है दोस्त
जहाँ झोपड़े थे पहले, वहां ताज नया है

उन प्यार भरी चिट्ठियों की ख़ुशबू थी अलग
मोबाइल पर ही मिलने का, अब अंदाज़ नया है

©दामोदर व्यास
11th April, 2015

Post a Comment

Followers