Sep 16, 2014

भँवरे

ये काले कलूटे डरावने से भंवरे

अकसर बगीचों में

नज़र आयेंगे

फूलों पर मंडराते हुए


बरसों से वैज्ञानिकों ने

फूलों और भँवरे के इस मिलन को

विज्ञान से जोड़ दिया

चित्रकारों ने तस्वीरें बना दी

मंडराते हुए भँवरे की


जब भी कभी

भंवरों ने

हमारे घर के किसी कोने में

अपने घर बनाये

तब तुड़वा दिए हमने उनके मिट्टी के घर

यह कहकर कि

ऐसा होना अपशगुन होता है


हमने अकसर

अख़बार से झटककर मार डाला है

इन काले कलूटे डरावने से भंवरों को

कह दिया कि शोर बहुत करता है


#damukipoem

Post a Comment

Followers