Jul 18, 2014

सरकारी अस्पताल

वो खामोश खड़ा है
पुराने बरगद की तरह
शहर की हाई राइज इमारतों के बीच
उस बरगद की छाँव में
हजारों लोगों ने दिनभर
अपनी थकान मिटाई है

टूटती टहनियाँ, सूखते पत्ते
तमाम परेशानियों के बावजूद
उसने कितनों को लू से बचाया
कितनों को गोद में सुलाया

उस बूढ़े पेड़ को देखकर
सरकारी अस्पताल याद आता है
कितने ही ज़रुरतमंदों को पनाह दी जिसने
शाम को अपनी ही मंद रोशनी में
जो थककर सो गया
ज़रूरतों के लिए बना था
ज़रुरतमंदों का हो गया

-16/7/2014
From: J J
#damukipoem

Post a Comment

Followers