Dec 6, 2013

धन्यवाद सचिन

मैं जनता हूँ उस वक़्त क्या सोच रहे थे तुम
जिस वक़्त जिंदगी छोड़ने का फैसला कर रहे थे
मैं जनता हूँ कि तुमने कभी भी अपनी ज़िंदगी को अपनी नहीं माना
झोंक दिया सब कुछ जो भी था, जितना था
मैं जानता हूँ वो सवाल कितने चुभ रहे थे तुम्हारे सीने में
मैं जानता हूँ
मुश्किल था यह कहना
कि जिंदगी छोड़ रहा हूँ
तुम्हारे लिए बस ऐसा ही होगा
जैसा मेरे लिए यह सुनना
कि तुम अब नहीं आओगे
क्रिकेट का बल्ला लेकर
सचिन मुश्किल है
तुम्हारे बगैर क्रिकेट सोचना
मैं जनता हूँ

Post a Comment

Followers