May 30, 2013

हिंदुस्तान मर चुका है

ज़मीर मर चुका है
इंसान मर चुका है
किसके भरोसे जीयेंगे
सम्मान मर चुका है

तुम रैलियां निकालो
आवाज़ तुम उठालो
था जो भी सुनने वाला
वो कान मर चुका है

न बेटियाँ सुरक्षित
न बहने जी रही हैं
जिस घर में सांस लेती
वो मकान मर चुका है

शक्ति को चढ़ता सोना
बहुओं को पड़ती लातें
मुझे माफ़ करना यारों
हिंदुस्तान मर चुका है.
Post a Comment

Followers